Simran Gill

Simran Gill Simran Gill
0 75.451952

no images yet

SHARE WITH OTHERS
See new updates

Simran Gill

Latest Updates

👇🏽एक बार एक किसान का घोडा बीमार हो गया। उसने उसके इलाज के लिए डॉक्टर को बुलाया डॉक्टर ने घोड़े का अच्छे से मुआयना किया और बोला...

"आपके घोड़े को काफी गंभीर बीमारी है।
हम तीन दिन तक इसे दवाई देकर देखते हैं, अगर यह ठीक हो गया तो ठीक नहीं तो हमें इसे मारना होगा। क्योंकि यह बीमारी दूसरे जानवरों में भी फ़ैल सकती है।"

यह सब बातें पास में खड़ा
एक *बकरा* भी सुन रहा था।

*अगले दिन* डॉक्टर आया,
उसने घोड़े को
दवाई दी चला गया।

उसके जाने के बाद
बकरा घोड़े के
पास गया और बोला,
"उठो दोस्त, हिम्मत करो,
नहीं तो यह तुम्हें मार देंगे।"

*दूसरे दिन*
डॉक्टर फिर आया
और दवाई देकर चला गया।
बकरा फिर घोड़े के पास आया
और बोला,
"दोस्त
तुम्हें उठना ही होगा।
हिम्मत करो
नहीं तो तुम मारे जाओगे।
मैं तुम्हारी मदद करता हूँ।
चलो उठो"

*तीसरे दिन*
जब डॉक्टर आया तो
किसान से बोला,
"मुझे अफ़सोस है कि
हमें इसे मारना पड़ेगा
क्योंकि कोई भी सुधार
नज़र नहीं आ रहा।"

जब वो वहाँ से गए तो
बकरा घोड़े के पास
फिर आया और बोला,
"देखो दोस्त,
तुम्हारे लिए अब
*करो या मरो* वाली
स्थिति बन गयी है।

अगर तुम आज भी नहीं उठे
तो कल तुम मर जाओगे।
इसलिए हिम्मत करो।
हाँ, बहुत अच्छे।
थोड़ा सा और,
तुम कर सकते हो।
शाबाश,
अब भाग कर देखो,
तेज़ और तेज़।"

इतने में किसान
वापस आया तो उसने देखा कि
उसका घोडाभाग रहा है।

वो ख़ुशी से झूम उठा
और सब घर वालों को
इकट्ठा कर के चिल्लाने लगा,

*"चमत्कार हो गया, *
*मेरा घोडा ठीक हो गया।*
*हमें जश्न मनाना चाहिए..*

आज बकरे की बिरयानी खायेंगे।"

*शिक्षा :*
*Management or government को*
*कभी नही पता होता कि*
*कौन employee*
*काम कर रहा है। जो काम कर रहा होता है उसी का ही काम तमाम हो जाता है।*

   Over a month ago
SEND

👇🏽एक बार एक किसान का घोडा बीमार हो गया। उसने उसके इलाज के लिए डॉक्टर को बुलाया डॉक्टर ने घोड़े का अच्छे से मुआयना किया और बोला...

"आपके घोड़े को काफी गंभीर बीमारी है।
हम तीन दिन तक इसे दवाई देकर देखते हैं, अगर यह ठीक हो गया तो ठीक नहीं तो हमें इसे मारना होगा। क्योंकि यह बीमारी दूसरे जानवरों में भी फ़ैल सकती है।"

यह सब बातें पास में खड़ा
एक *बकरा* भी सुन रहा था।

*अगले दिन* डॉक्टर आया,
उसने घोड़े को
दवाई दी चला गया।

उसके जाने के बाद
बकरा घोड़े के
पास गया और बोला,
"उठो दोस्त, हिम्मत करो,
नहीं तो यह तुम्हें मार देंगे।"

*दूसरे दिन*
डॉक्टर फिर आया
और दवाई देकर चला गया।
बकरा फिर घोड़े के पास आया
और बोला,
"दोस्त
तुम्हें उठना ही होगा।
हिम्मत करो
नहीं तो तुम मारे जाओगे।
मैं तुम्हारी मदद करता हूँ।
चलो उठो"

*तीसरे दिन*
जब डॉक्टर आया तो
किसान से बोला,
"मुझे अफ़सोस है कि
हमें इसे मारना पड़ेगा
क्योंकि कोई भी सुधार
नज़र नहीं आ रहा।"

जब वो वहाँ से गए तो
बकरा घोड़े के पास
फिर आया और बोला,
"देखो दोस्त,
तुम्हारे लिए अब
*करो या मरो* वाली
स्थिति बन गयी है।

अगर तुम आज भी नहीं उठे
तो कल तुम मर जाओगे।
इसलिए हिम्मत करो।
हाँ, बहुत अच्छे।
थोड़ा सा और,
तुम कर सकते हो।
शाबाश,
अब भाग कर देखो,
तेज़ और तेज़।"

इतने में किसान
वापस आया तो उसने देखा कि
उसका घोडाभाग रहा है।

वो ख़ुशी से झूम उठा
और सब घर वालों को
इकट्ठा कर के चिल्लाने लगा,

*"चमत्कार हो गया, *
*मेरा घोडा ठीक हो गया।*
*हमें जश्न मनाना चाहिए..*

आज बकरे की बिरयानी खायेंगे।"

*शिक्षा :*
*Management or government को*
*कभी नही पता होता कि*
*कौन employee*
*काम कर रहा है। जो काम कर रहा होता है उसी का ही काम तमाम हो जाता है।*

   Over a month ago
SEND

🎯 *गुरमेहर कौर ने ऐसा क्या कर दिया*🎯
➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
.
छह महीने में ट्विटर से 30 लाख रूपये कमाने वाले सहवाग को ऐसे ट्वीट करने ही पड़ते हैं जो वायरल हो सकें. इसीलिए वे अपना धंधा चमकाने के लिए एक कारगिल शहीद की बेटी के शांति संदेश को तोड़-मरोड़कर नफरत फैलाने से भी नहीं चूके. लेकिन आप लोग, जो सहवाग का ट्वीट पढ़कर नफरती चिंटू बने जा रहे हो, गुरमेहर कौर का संदेश पूरा देख लो.....
*पिछले साल उन्होंने एक विडियो बनाया था जिसमें कुल 36 स्लाइड्स थी*:➖
1: Hi.

2: मेरा नाम गुरमेहर कौर है.

3: मैं जालंधर की रहने वाली हूं.

4: ये मेरे पापा कैप्टेन मंदीप सिंह हैं. (कैप्टेन मंदीप सिंह की तस्वीर दिखाते हुए.)

5: वे 1999 के कारगिल युद्ध में मारे गए थे.

6: जब उनकी मौत हुई तब मैं सिर्फ दो साल की थी. मेरे पास उनकी बहुत कम यादें हैं.

7: मेरी अधिकतर यादें यही हैं कि पिता का न होना कैसा होता है.

8: मुझे यह भी याद है कि मैं पाकिस्तान और पाकिस्तानियों से कितनी नफरत करती थी. क्योंकि उन्होंने मेरे पापा को मरा था.

9: मैं मुलसमानों से भी नफरत करती थी क्योंकि मुझे लगता था कि सभी मुसलमान पाकिस्तानी होते हैं.

10. जब मैं 6 साल की थी, मैंने बुर्का पहने एक औरत पर हमला करने की कोशिश की थी.

11: क्योंकि कुछ अजीब कारणों के चलते मुझे लगा कि वह भी मेरे पापा की मौत की जिम्मेदार है.

12: तब मेरी मां ने मुझे संभाला और मुझे समझाया कि..

13: पाकिस्तान ने मेरे पापा को नहीं मारा, जंग ने उन्हें मारा है.

14: यह समझने में मुझे समय लगा. लेकिन अब मैंने अपनी नफरत को त्यागना सीख लिया है.

15: यह आसान नहीं था, लेकिन यह मुश्किल भी नहीं है.

16: अगर मैं ये कर सकती हूं तो आप भी कर सकते हैं.

17: आज मैं भी एक सिपाही हूं, बिलकुल अपने पापा की तरह.

18: मैं हिंदुस्तान और पाकिस्तान के बीच शांति स्थापित करने के लिए लड़ रही हूं.

19: क्योंकि अगर हमारे बीच जंग नहीं होती, तो मेरे पापा आज यहां होते.

20: मैं यह विडियो इसलिए बना रही हूं क्योंकि मैं चाहती हूं कि दोनों देशों की सरकारें अब दिखावा बंद करें.

21: और समस्या को सुलझाएं.

22: अगर फ्रांस और जर्मनी दो विश्व युद्ध लड़ने के बाद भी दोस्त बन सकते हैं

23: अगर जापान और अमरीका अपना इतिहास पीछे छोड़ते हुए एक साथ प्रगति के लिए काम कर सकते हैं

24: तो फिर हम क्यों नहीं?

25: अधिकतर हिन्दुस्तानी और पाकिस्तानी शांति चाहते हैं, युद्ध नहीं.

26: मैं दोनों देशों की नेतृत्व क्षमताओं पर सवाल कर रही हूं.

27: हम थर्ड वर्ल्ड का नेतृत्व लेकर फर्स्ट वर्ल्ड देश बनने का सपना नहीं देख सकते.

28: प्लीज, अपने प्रयासों में सुधार करें, एक-दूसरे से बात करें और यह काम पूरा करें.

29: राष्ट्र द्वारा प्रायोजित आतंकवाद बहुत हो चुका.

30: राष्ट्र द्वारा प्रायोजित जासूस बहुत हो चुके.

31: राष्ट्र द्वारा प्रायोजित नफरत अब बहुत हो चुकी.

32: बॉर्डर के दोनों तरफ बहुत लोग मारे जा चुके हैं.

33: अब बहुत हो चुका है.

34: मैं एक ऐसी दुनिया में रहना चाहती हूं जहां और कोई गुरमेहर कौर न हो जो अपने पापा को मिस करे.

35: मैं अकेली नहीं हूं, मेरे जैसे कई लोग हैं.

36: # Profile for Peace.

*4 मिनट 23 सेकंड के इस विडियो की कुल 36 स्लाइड्स में से कुछ नफरती चिंटुओं ने सिर्फ 13वीं स्लाइड को वायरल कर दिया. जिन्हें युद्ध और शहीदों की लाशों पर राजनीति चमकानी है, वे ऐसा करेंगे ही. सहवाग जैसे लोग, जिन्हें ऐसे मुद्दों से पैसा बनाना है, वे भी ऐसा करेंगे ही. लेकिन आप लोग तय कीजिये कि आप गुरमेहर कौर के साथ हैं, या उन्हें जान से मारने और बलात्कार की धमकियां देने वालों के साथ हैं*...

   Over a month ago
SEND